Search Everything

jaivana cannon or jayban top - duniya ki sabse badi top

Jaivana Cannon Jaigarh Fort Jaipur - Largest Cannon of World

jaivana cannon jaigarh fort jaipur - largest cannon of world, jaivana cannon or jayban top - duniya ki sabse badi top, biggest cannon of world, jaivana cannon history, jai ban top, jaiban cannon, jaiwan cannon, jayban cannon, jaywan cannon, jayban top, jaivan top, largest cannon on wheel, who built jaivana cannon, jaivana cannon speciality, jaigarh fort, jaipur, udaipur jaipur

जयवाण तोप जयगढ़ किला जयपुर - दुनिया की सबसे बड़ी तोप

यूँ तो आपने अपने जीवन में कई जगह अनेक तोपें देखी होगी लेकिन आज हम आपको जिस तोप के सम्बन्ध में बताने जा रहे हैं वैसी तोप आपने ना तो कही देखी होगी और ना ही कही सुनी होगी.

आज हम आपको दुनिया की सबसे बड़ी और सबसे भारी तोप के बारे में बताने जा रहे है. यह तोप जयपुर में जयगढ़ किले के अन्दर स्थित है और इसका नाम है जयवाण. यह तोप अपने आप में एक अजूबा होने के साथ-साथ हमारे पूर्वजों की अनमोल धरोहर है.

वर्तमान में यह तोप जयगढ़ किले के ऊँचाई वाले भाग में एक टीन शेड के नीचे रखी हुई है. इसे देखने के लिए प्रतिवर्ष लाखों टूरिस्ट जयगढ़ किले में आते हैं.

Who built Jayban Top?

इस विशाल तोप का निर्माण महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने 1720 ईस्वी में करवाया था. यह तोप पूरी तरह से जयपुर में बनी हुई है जिसका निर्माण जयगढ़ किले में स्थित तोप बनाने के कारखाने में ही हुआ था.

आपको सुनकर बड़ा आश्चर्य होगा कि आज तक किसी भी युद्ध में इस तोप का इस्तेमाल नहीं हो पाया है क्योंकि इसके इस्तेमाल की कभी जरूरत ही नहीं पड़ी.

इसके दो कारण है, एक तो यह तोप काफी बड़ी और वजनदार है जिसकी वजह से इसे किले से दूर कहीं ओर ले जाना संभव नहीं था दूसरा जयपुर के महाराजाओं के मुगलों से संबध हमेशा मित्रतापूर्ण रहे हैं जिसकी वजह से इन्हें उनके साथ कभी युद्ध की जरूरत नहीं पड़ी.

यह तोप अपने जीवन काल में सिर्फ एक बार ही चली है और वह भी इसके परीक्षण के समय. जब इसके परीक्षण के समय गोला दागा गया था तब वह गोला यहाँ से लगभग 35 किलोमीटर दूर चाकसू नामक कस्बे में जाकर गिरा.

जिस स्थान पर यह गोला गिरा था, उस स्थान पर गोले की वजह से एक बड़ा तालाब बन गया था. यह तालाब आज भी स्थानीय लोगों के पानी की जरूरत को पूरा करता है.

Also Read सामोद महल चौमूँ जयपुर

जयवाण तोप का वजन लगभग 50 टन है. इसे एक चार पहिया गाडी में रखा गया है जिसके आगे के दो पहिये काफी बड़े आकार के हैं. आगे के पहियों का व्यास लगभग 9 फीट (2.74 मीटर) और पीछे के पहियों का व्यास लगभग साढ़े चार फीट है.

Speciality of Jaivana Cannon

इसके बैरल यानि नाल की लम्बाई 20.2 फीट (6.15 मीटर) है. बैरल के आगे की नोक के पास की परिधि 7.2 फीट (2.2 मीटर) और पीछे की परिधि 9.2 फीट (2.8 मीटर) है.

बैरल के बोर का व्यास 11 इंच (28 सेंटी मीटर) और छोर पर बैरल की मोटाई 8.5 इंच (21.6 सेंटी मीटर) है. तोप के पीछे से आगे की तरफ मोटाई धीरे-धीरे बढती जाती है.

इस तोप में काम में लिए जाने वाले गोले भी काफी वजनी होते थे. ऐसा माना जाता है कि एक गोले का वजन लगभग 50 किलो था. तोप को एक बार भरने के लिए लगभग 100 किलो बारूद की आवश्यकता पड़ती थी.

तोप के पीछे के पहियों और उनके निकट लगी रोलिंग पिन की सहायता से इसे ऊपर नीचे करने के साथ-साथ चारों दिशाओं में घुमाया जा सकता है.

इस तोप की मारक क्षमता 22 मील यानि लगभग 35 किलोमीटर मानी जाती है जो इसके परीक्षण से पता चली थी.

यह तोप एक विध्वंसक हथियार होने के बावजूद कला का एक अनूठा नमूना है. तोप की नली पर फूलों की डिजाईन उकेरी हुई है. इसके मुहाने पर हाथी, बीच में मोर युगल और पीछे की तरफ बतख युगल उकेरी हुई है.

इसकी नाल को पहियों पर दुबारा रखने का कार्य उन्नीसवीं शताब्दी में महाराजा राम सिंह द्वितीय के कार्य काल में हुआ. इसी समय यहाँ पर एक टीन शेड यानि लोहे के एक छप्पर का निर्माण करवाया गया.

अगर आप जयपुर भ्रमण पर आ रहे हैं तो आपको इस दुर्लभ अजूबे को अवश्य देखना चाहिए.

Frequently Asked Questions (FAQs)

Question - जयवाण तोप कहाँ पर स्थित है?
Answer - जयवाण तोप जयपुर में स्थित जयगढ़ के किले में स्थित है. यह किला एक पहाड़ी पर स्थित है. यहाँ पर कार या स्कूटर से जाया जा सकता है.

Question - जयवाण तोप की क्या विशेषता है?
Answer - जयवाण तोप की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह तोप दुनिया की ऐसी सबसे बड़ी तोप है जो पहियों पर रखी हुई है.

Question - जयवाण तोप के लिए विजिट करने का टाइम क्या है?
Answer - यहाँ पर सुबह से लेकर शाम तक कभी भी जा सकते हैं.

Question - क्या यहाँ पर जाने का कोई टिकट लगता है?
Answer - हाँ, यहाँ पर जाने के लिए अलग से कोई टिकट नहीं लेना पड़ता है. जयगढ़ किले में प्रवेश के लिए लिया गया टिकट काफी है.

Question - जयवाण तोप के निकट और कौनसे दर्शनीय स्थल मौजूद है?
Answer - चूँकि यह तोप जयगढ़ किले के अन्दर है इसलिए आप इस भव्य और ऐतिहासिक किले का भ्रमण कर सकते हैं. इस पहाड़ी के दूसरे छोर पर नाहरगढ़ फोर्ट स्थित है. बीच में चरण मंदिर और हथिनी कुंड स्थित है. पहाड़ी के नीचे आमेर फोर्ट स्थित है.

About Author

Ramesh Sharma
M Pharm, MSc (Computer Science), MA (History), PGDCA, CHMS

Connect with us

Follow Us on Facebook
Follow Us on Instagram
Follow Us on Twitter

Disclaimer

इस लेख में दी गई जानकारी विभिन्न ऑनलाइन एवं ऑफलाइन स्त्रोतों से ली गई है जिनकी सटीकता एवं विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है. हमारा उद्देश्य आप तक सूचना पहुँचाना है अतः पाठक इसे महज सूचना के तहत ही लें. इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी.

अगर आलेख में किसी भी तरह की स्वास्थ्य सम्बन्धी सलाह दी गई है तो वह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है. अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर लें.

आलेख में व्यक्त किए गए विचार लेखक के निजी विचार हैं एवं कोई भी सूचना, तथ्य अथवा व्यक्त किए गए विचार UdaipurJaipur.com के नहीं हैं. आलेख में दी गई किसी भी सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता अथवा सच्चाई के प्रति UdaipurJaipur.com उत्तरदायी नहीं है.